October 30, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

तेलंगाना मे वेटनरी डांक्टर की हत्या पर उबाल, कातिलो को फांसी की सजा देने की मांग


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

तेलंगाना मे वेटनरी डांक्टर की हत्या पर उबाल, कातिलो को फांसी की सजा देने की मांग

संवादाता महेंद्र कुमार

कमलापुर। तेलंगाना के हैदराबाद शहर वेटनरी डाँक्टर की रेप के बाद बर्बरता पूर्वक की गई निर्मम हत्या ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। आम आदमी से लेकर बुधजीवियो तक इस दरिंदगी पर अपने गुस्से का इजहार किया है।

पूर्व शिक्षका आशा शुक्ला कहती है तेलगाना की वेटनरी डाँक्टर के साथ हुई अमानवीय और जघन्य घटना ने हिलाकर रख दिया है। हम ये कैसा समाज बना रहे हैं? और उसके माता-पिता पर क्या गुजर रही है ये सोचकर दिल दहल जाता है। अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए।

समाज सेवीका बीना पाण्डेय ने भी इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए दोषियों  को सजा दिलाने की मांग की है। उन्होंने कहा की , तेलंगाना के हैदराबाद में डाँकटर की दर्दनाक हत्या ने मुझे हैरान और परेशान कर दिया है। कैसे कोई इंसान एक महिला के साथ ऐसी बर्बरता कर सकता है? इस भयानक अपराध के लिए हरहाल में सजा मिलनी चाहिए। और तेलगाना पुलिस को हत्यारों को सजा दिलाने के लिए तेजी से कार्रवाई करनी चाहिए।
छात्रा आरूषी तिवारी का कहना है की  हमारे देश में महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है लेकिन आज उसी देवी की अस्मिता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। आए दिन महिलाओं के साथ छेड़छाड़, हत्या और बलात्कार जैसी आमानवीय घटनाएं होती रहती है। सिर्फ महिलाएं ही नहीं अब छोटी बच्चियां भी महफूज नही है उनके साथ भी हैवानियत का सिलसिला शुरू हो चुका है। सरकारें भी महिला और बच्चियों की सुरक्षा के लिए तमाम तरह के वादे करती आई है बावजूद इसके महिलाओें और बच्चियों के साथ होने वाले अपराधों में कमी होने की जगह बढ़ोतरी ही हुई है। इससे जाहिर होता है की लोगो मे कानून का डर नही है
पारवारिक परामर्श केन्द्र की काउसलर माण्डवी मिश्रा का कहना है की सबसे महत्वपूर्ण सवाल ये है कि आखिर किस तरह से महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराध पर अंकुश लगाया जाए। महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों पर सिर्फ सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों से ही रोक नहीं लगेगी। इसके लिए समाज के हर एक वरिष्ठ नागरिक और बुद्धिजीवियों  को आगे आना होगा। सिर्फ कानून से महिलाओं पर बढ़ रहे अपराधों पर लगाम नहीं लगाई जा सकती है बल्कि लोगों की सोच और मानसिकता में बदलाव लाना ज्यादा जरुरी है।
कास्तुरबा की प्रधानाचार्य शशी यादव का कहना है ‘महिला के साथ निर्दयतापूर्वक किए गए रेप से गुस्‍सा, आतंकित, लज्जित और बहुत दुखी हूं। मैं मांग करती हूं कि आतंकियों को सरेआम फांसी दे दी जानी चाहिए। इसके अलावा इस घिनौने अपराध के लिए कोई और सजा काफी नहीं है।’

वही ब्यायम शिक्षका कोमल कहती है , तेलगाना मे वेटनरी डाँक्टर के साथ घिनौने तरीके से रेप और हत्‍या कर दी गई। अपराधियों ने अमानवीय और पशुवत आचरण करते हुए उसको प्रटोल डाल कर जला दिया ऐसे अपराधियों को निश्चित रूप से फांसी दी जानी चाहिए। कानून को तेजी से अपना काम करना होगा। उसको को न्‍याय मिले।’
‘तत्‍काल और कड़ी से कड़ी सजा देने की जरूरत’