October 23, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

मेहंदीपुर बालाजी भक्तों का उमड़ा सैलाब बालाजी के किये दर्शन


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

टोडाभीम

मेहंदीपुर बालाजी भक्तों का उमड़ा सैलाब बालाजी के किये दर्शन।

करौली एवं दौसा जिले के मध्य में प्रसिद्ध स्थान श्री मेहंदीपुर बालाजी विराजमान हैं । बालाजी मंदिर के दर्शन करने के लिए यात्रियों की मंगलवार शनिवार को अक्सरकर भक्त गण आया करते हैं ।श्री बालाजी महाराज की समाधि पर भी भक्त पहुंच कर जलेबी धूप-दीप जलाकर भस्म लेकर जाया करते हैं ।श्री बालाजी महाराज के यहां सवामणी करने वाले एवं अर्जी लगाई जाती है।श्री बालाजी महाराज के महंत श्री किशोर पुरी महाराज की देखरेख में ही किया जाता है। बालाजी महाराज के दर्शनों के लिए हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश, स्थानीय प्रांत राजस्थान जैसे राज्यों से भक्तों का हमेशा तांता लगा रहता है। सुबह एवं शाम को जब आरती होती है तो भक्तों की भीड़ इतनी हो जाती है की 1 से 2घन्टे के लिए आमजन एवं श्रद्धालुओं निकलना विल्कुल बंद हो जाता है। आरती होने के बाद भक्तों द्वारा समाधी पर जाकर जलेबी का प्रसाद चढ़ाकर मन्नत पूरी करने के लिए प्रार्थना की जाती है। मंगलवार शनिवार को को मंदिर परिसर क्षेत्र में पैर रखने के लिए भी जगह नहीं मिलती है । मेहंदीपुर बालाजी में बड़े बड़े संकटों का निवारण होता है। यह स्थान दोसा नेशनल हाईवे एन एच ग्यारह से महज 1 किलोमीटर पर पड़ता है। वैसे तो अधिकतर यात्री अपने निजी साधनों से आया करते हैं लेकिन कुछ यात्रियों यहां पर आने के लिए बसों का भी उपयोग करते हैं जो बालाजी मोड़ पर उतर कर टेंपो द्वारा बालाजी स्थान पर पहुंचते हैं। यहां का बाजार यात्रियों की सुविधा के अनुसार अधिकतर लेट तक खुला रहता है। यात्रियों को किसी प्रकार की परेशानी ना हो इसके लिए मंदिर ट्रस्ट द्वारा गार्डों की व्यवस्था कर रखी है। 24 घंटे घाट मंदिर परिसर तथा यात्रियों को किसी प्रकार की असुविधा ना हो इसके लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। बालाजी महाराज की असीम अनुकंपा से यात्रियों का संकट दूर होते नजर आते हैं। श्री बालाजी महाराज का दीपावली से पहले दशहरे पर लक्की मेला का आयोजन होता है। दीपावली के अवसर पर मेहंदीपुर बालाजी ट्रस्ट द्वारा मंदिर मैं डेकोरेशन लगाया जाता है जिससे अद्भुत दिखाई पड़ते हैं। बालाजी महाराज के यहां छप्पन भोग की झांकी रोज सजाई जाती है। श्रद्धालु छप्पन भोग का प्रसाद पाने के लिए दो से चार घंटों तक लाइन लगाकर प्रसाद पाने के लिए जय श्रीराम के जयकारों के साथ खड़े रहते हैं।।
रमाकांत जैमिनी