November 1, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

मंदसौर- अंजुमन जिला वक़्फ़ कमेटी और कांग्रेस नेताओं की दिलचस्पी


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

अंजुमन ,जिला वक़्फ़ कमेटी और कांग्रेस नेताओं की दिलचस्पी

मीनाक्षी गुट से श्री शेख और अन्य गुट से कुरेशी के नए नाम भोपाल पहुंचे इन्ही में से कोई एक हो सकता अंजुमन सदर

उस्मानपुर थाने के अंर्तगत फिर एक बार हुई बुलेट मोटरसाइकल चोरी , घटना सीसीटीवी में कैद

मंदसौर / पिछले कई दिनों से आओ सब मिलकर खेलते है अंजुमन ,अंजुमन पर कांग्रेस नेता अपने दिल के अंजुमन में कब किस को जगह दे दे कुछ कह नही सकते है कांग्रेस में व्यक्ति निष्ठा को बहुत महत्वपूर्व माना जाता है लेकिन कभी कभी नेताओ के स्वार्थ के चक्कर मे अपने लोगो की कुर्बानी दे दी जाती है और इन दिनों मंदसौर से लेकर भोपाल के राजनीतिक गलियारों में यही सब कुछ चल रहा है रोजाना अंजुमन की नूरा कुश्ती में मुस्लिम समाज सिर्फ मोहरा बन चुका है अन्य समाजो की बात की जाए तो कोई भी राजनीतिक दल समाजो की संस्था में कोई दिलचस्पी नही रखता है जिस नक्शे कदम पर मुस्लिम समाज मे बीजेपी कार्य करती थी उसी तरह आज कांग्रेस नेता भी मुस्लिमो को आपस मे लड़ाकर अपना स्वार्थ साधने में लगे हुए है और नुकसान पूरे समाज का हो रहा है यू तो अंजुमन सदर बनने के लिए कांग्रेस के नेता अपने अपने मुस्लिम समर्थको के नाम आगे बढ़ा कर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने पर आमादा है और कुछ मुस्लिम नेता उनके पिछलग्गू बन कर कोम को हंसी का पात्र बनाने में कोई कसर नही छोड़ रहे है जैसे जैसे सर्दी अपना रुख दिखा रही है वेसे वेसे अंजुमन और जिला वक़्फ़ कमेटी को लेकर मुस्लिम नेताओ में गर्मी बढ़ रही है और भोपाल गलियारों में मंत्री आरिफ अकील के बंगले पर अपनी मौजूदगी दिखा रहे है कुछ दिनों पहले मीनाक्षी नटराजन के समर्थक कांग्रेस नेता मो.हुसेन रिसालदार को अंजुमन सदर बनवाने के लिए कांग्रेस जिला अल्पसंख्यक विभाग अध्यक्ष यूनुस मेव, मंदसौर शहर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष हनीफ शेख ,के पत्र के आधार पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष ने मीनाक्षी नटराजन की सहमति के आधार पर अल्पसंख्यक मंत्रालय के नाम पत्र जारी किया गया था तथा नाहटा गुट की और से असगर मेव का नाम दिया गया था लेकिन कुछ तकनीकी कारणों से रिसालदार के नाम पर आपत्ति आने पर नए अंजुमन सदर के लिए मीनाक्षी समर्थको ने एक नए नाम को समर्थन दे दिया है जिसमे यह माना जा रहा है कि पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष मो खलील शेख, और एक अन्य गुट से पूर्व सीरत कमेटी सदर अकील कुरेशी नए नाम है खलील शेख को लेकर के मीनाक्षी गुट के पूर्व विद्यायक नवकृष्ण पाटिल, हनीफ शेख एवं यूनुस मेव ने शेख को लेकर अपनी सहमति दी है और समझौते के तहत अंजुमन सदर के लिए खलील शेख या अकील कुरेशी एवं जिला वक़्फ़ कमेटी सदर के लिए असगर मेव के नाम का पत्र 30 नवम्बर के बाद भोपाल से कभी भी आ सकता है और यह सब कुछ मीनाक्षी नटराजन की कृपा दृष्टि से सम्भव हो रहा है जो भी हो पर मीनाक्षी गुट अंजुमन की सियासत पर भारी पड़ रहा है मीनाक्षी गुट से खलील और एक अन्य गुट से अकील दोनों में से किसी एक का बनना लगभग तय है,