October 22, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

सिखों को सरकारी नौकरी का अधिकार नहीं”, रोजगार निदेशालय पर ‘जागो’ पार्टी लगाएगी बोर्ड


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

सिखों को सरकारी नौकरी का अधिकार नहीं”, रोजगार निदेशालय पर ‘जागो’ पार्टी लगाएगी बोर्ड

डीएसएसएसबी के सिख विरोधी एजेंडे से आर-पार की लड़ाई लड़ेगे : जीके

नई दिल्ली 16 नवम्बर (मनप्रीत सिंह खालसा):- दिल्ली में सरकारी नौकरी की तलाश में डीएसएसएसबी की प्रवेश परीक्षा में बैठने वाले सिख दावेदारों के साथ हो रहें धार्मिक भेदभाव से निपटने का ‘जागो’ पार्टी ने नायाब तरीका खोजा है। जागो- जग आसरा गुरु ओट (जत्थेदार संतोख सिंह) पार्टी के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने सोमवार 18 नवम्बर को रोजगार निदेशालय,पूसा के गेट पर एक बोर्ड लगाने का ऐलान किया है। जिस पर लिखा होगा कि “सिखों को सरकारी नौकरी प्राप्त करने का हक नहीं है”। इस बात का ऐलान जीके ने आज मीडिया को जारी ब्यान में किया। जीके ने कहा कि देश का संविधान सिख को कृपाण धारण करने की आजादी देता है। पर डीएसएसएसबी कृपाण तो दूर सिख परिक्षार्थी को कड़ा पहनने से भी रोक कर अपनी सिख व संविधान विरोधी मानसिकता को जाहिर कर रहा है।

जीके ने बताया कि वो खुद डीएसएसएसबी के दफ्तर हरगोबिंद एंकलेव पिछले दिनों एक ज्ञापन दे कर आए थे, जिसमें दिल्ली हाईकोर्ट में दिल्ली पुलिस द्वारा सिख को कृपाण धारण की दी गई सहमति का हवाला था। लेकिन संकीर्ण व साम्प्रदायिक सोच से ग्रस्त अफसरशाही अपने आपको संविधान, पुलिस व हाईकोर्ट से ऊपर समझ रही है। क्योंकि उनके द्वारा दिल्ली हाईकोर्ट में डीएसएसएसबी के खिलाफ डाली गई याचिका पर अभी फैसला आना बाकी है। जीके ने कहा कि एक तरफ दिल्ली सरकार नौजवानों को रोजगार देने के लिए रोजगार निदेशालय की वैबसाइट पर रोजगार के लिए खुद को पंजीकृत करने का पोर्टल चला रही है। वही दुसरी ओर डीएसएसएसबी उप मुख्यमंत्री के आदेश को दरकिनार करके सिख बच्चों को परीक्षा में बैठने से रोकने के लिए आमादा है। इसलिए हम रोजगार निदेशालय के बाहर बोर्ड चस्पा करेंगे कि सिखों को सरकारी नौकरी करने का अधिकार नहीं है।

जीके ने ऐलान किया कि इसके बाद पार्टी के द्वारा दिल्ली में बड़े बोर्ड लगाकर देश की राजधानी में संविधान को नजरअंदाज करने के डीएसएसएसबी के रवैये से जनता को अवगत कराया जाएगा, सरकारी परीक्षा एजेंसी की मानसिकता में सुधार न होने तक आर-पार की लड़ाई जारी रहेगी। दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के द्वारा ककार की वजह से परीक्षा में न बैठ सकने में नाकाम रहें सिख परिक्षार्थीयों के साथ फोटो खींच कर अखबारों में लगवाने के नए शुरू किए गए रुझान को गलत बताते हुए जीके ने कहा कि इन खबरों से कमेटी की प्रतिष्ठा व ताकत दोनों को नुकसान पहुँच रहा है। क्योंकि इससे सिखों के बीच कमेटी की बेचारगी सार्वजनिक हो रही है। इसलिए ऐसे फोटो फोबिया से बचने की जरूरत है।