October 28, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

बेमौसम बारिश से किसानों की फसल तबाह , सरकार से उचित मुआवजा की मांग


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

बेमौसम बारिश से किसानों की फसल तबाह , सरकार से उचित मुआवजा की मांग।

जेताराम परिहार , जालोर।

जिले भर में बेमौसम बारिश होने से किसानों के खेत में खड़ी लहलहाती फसल को बीते दो दिनों में भारी नुकसान हुआ हैं। बेमौसम बारिश से परेशान किसानों ने शुक्रवार को सायला खण्ड के किसानों ने जीवाणा स्थित बायोसा माता मंदिर में भारतीय किसान संघ के बैनर तले संघ के पदाधिकारियों ने किसानों के साथ बैठक की। बैठक में हाल ही में बेमौसम बारिश से किसानों की फसल तबाह हो जाने के विषय पर चर्चा कर किसानों ने सरकार से फसलों के नुकशान का सर्वे करवाकर उचित मुआवजा दिलाए जाने की सरकार से मांग की। भारतीय किसान संघ ने उपखण्ड अधिकारी सायला को ज्ञापन सौपकर इस बेमौसम बारिश से पीड़ित किसानों ने राज्य सरकार से मुआवजा देने की मांग रखी। ज्ञापन में किसानों ने बताया कि इस बार ज्यादा बारिश से अनार की खेती वाले किसान पहले से ही परेशान थे। अब उन्होंने रायड़ा , अरण्डी एवं मिर्ची की खेती की थी। बरसात के मौसम में ज्यादा बारिश होने से अब उनकी रायड़ा , अरण्डी एवं मिर्ची की फसल अच्छी थी लेकिन अब बेमौसम बारिश एवं तेज हवा ने सारी फसले नष्ट कर दी है। ऐसे में किसानों की सब मेहनत मिटटी में मिल गयी है। ऐसे में अब उनकी रोजी रोटी के भी लाले पड़ जायेंगे।
किसानों ने कहा कि बैमौसम बारिश से उनका सब कुछ तबाह हो गया है। खेतों मे लहलहाती फसले खराब हो जाने से उनकी मेहनत पर पानी फिर गया है। किसानों ने शुक्रवार को उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौपते हुए सरकार को चेतावनी दी है कि अगर समय पर खराब फसल का सर्वे कराकर मुआवजा नहीं दिया गया तो किसान बड़ा आंदोलन करेंगे। बैठक को संबोधित करते हुए तहसील अध्यक्ष सांवलाराम चौधरी ने कहा कि सरकार जल्द सर्वे करवा कर किसानों को उनका हक दे। इसके साथ ही किसानों ने बैठक के बाद एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। जिसमें वंचित किसानों के वर्ष 2018 का स्वीकृत खरीफ फसल बीमा क्लेम दिलाने , बेमौसम बारिश से खराब फसलों का सर्वे कर मुआवजा दिलाने समेत अन्य समस्याओं के समाधान की मांग रखी. वहीं। इस मौके पर रामाराम आलवाडा , जेमाराम आलवाडा , हिमाराम चौधरी , दुर्गाराम चोचवा सहित सैकड़ों किसान मौजूद रहे।