October 23, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

जाने- गलत नाम से किस्मत कैसे साथ देगी, अगर गलत पासवर्ड से फोन तक नहीं खुलता?


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

मुकेश सिंह चौधरी (Russia)

अगर गलत पासवर्ड से फोन नहीं खुलता तो नाम के जन्म तारीख से सन्तुलित ना होने उर्जावान प्रतिरक्षा प्रणाली के असंतुलित होने पर हम unwanted issues proof life (अकारण समस्याओं से रहित जीवन) की कैसे उम्मीद रख सकते हैं। सभी दिमाग की अहमियत समझते हैं। ग्रह, नक्षत्र की चाल का इस पर प्रभाव भी। जिसके चलते पूजा पाठ और नक्षत्र आधारित नामकरण भी रखते हैं। पूर्णिमा के दिमाग और जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों को भी जानते है कि इस दिन चंद्रमा की पुर्ण कला पर होने से गुस्सा, लड़ाई-झगड़े, परिवारीक कलह, आत्महत्या, मर्डर आदी सर्वाधिक होते हैं। हमारे जीवन की बजाय दिमाग पर चन्द्रमा का प्रभाव पड़ता है जिसके कारण यह घटनाएं होती हैं क्योंकि उर्जावान प्रतिरक्षा प्रणाली असंतुलित होने से दिमाग चन्द्रमा की उर्जा को सही से compress नहीं कर पाता और इसके चलते सोचने समझने व निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित होती है।
इन सब की जानकारी होने के बावजूद हमें यह नहीं भूलना चाहिए की वर्तमान समय हमारे और हमारी आने वाली पीढीयो के लिए नई नई चुनौतीयां हैं। एक तरफ खानपान के कारण शारिरीक कमजोरी के साथ मानसिक दुर्बलता के शिकार हो रहे हैं जिससे सहन शक्ति ना के बराबर रही हैं। जिससे लड़ाई-झगड़े, तनाव, गुस्से आदि की स्थिति ज्यादा रहती हैं। दुसरा तकनीकी विकास के कारण आर्टिफिसियल रेडिएशन से हमारा 70% तक उर्जात्मक हनन होता है। इससे नई नई बीमारियों का उद्भव हुआ है और घर परिवार टूट रहे है तथा नपुंसकता, पोर्न एडिक्शन, वर्चुअल सेक्स, सेक्स अफेयर जैसी अकारण समस्याएं वर्तमान व आने वाली पीढीयो के लिए खतरा है।
वर्तमान परिस्थितियां इतनी sensitive हैं की इस आर्थिक व तकनीकी युग में हमें अपनी उर्जा को सन्तुलित रखना जरूरी है। नाम का उर्जावान प्रतिरक्षा प्रणाली का सन्तुलित होना ज़रूरी है। जिसकी अधिक जानकारी के लिए पेज https://m.facebook.com/uniquerahasyalogy पर विजिट करें। अपने व अपने परिवार के सर्वोत्तम जीवन व सफलता के लिए नाम की उर्जावान प्रतिरक्षा प्रणाली से सन्तुलित करे और अकारण परेशानियों से बचाव के साथ साथ जीवन को सर्वोत्तम बनाए।