October 28, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

करतारपुर कॉरिडोर को यात्री सहायक तथा परेशानी रहित बनाने की ‘जागो’ पार्टी ने उठाई माँग


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

करतारपुर कॉरिडोर को यात्री सहायक तथा परेशानी रहित बनाने की ‘जागो’ पार्टी ने उठाई माँग

बिना पासपोर्ट के यात्रियों को मंजूरी देने के लिए पाकिस्तान से द्विपक्षीय समझौता करें भारत सरकार: जीके

नई दिल्ली 14 नवम्बर (मनप्रीत सिंह खालसा):- करतारपुर कॉरिडोर के जरिए गुरुद्वारा दरबार साहिब पाकिस्तान जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में कमी को देखते हुए जागो पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। जागो-जग आसरा गुरु ओट(जत्थेदार संतोख सिंह) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने मोदी का कॉरिडोर खोलने के लिए धन्यवाद करते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय के करतारपुर यात्रा पोर्टल को यात्री सहायक तथा परेशानी रहित बनाने की माँग की है। जीके ने बताया कि भारत-पाकिस्तान के बीच हुए समझौते के अनुसार आम दिनों में 5000 तथा किसी गुरुपर्व पर 10000 यात्री प्रतिदिन कॉरिडोर के जरिए करतारपुर जा सकते है। 9 नवम्बर को मोदी के द्वारा उद्घाटन करने के बाद आम यात्रीयों के लिए कॉरिडोर 10 नवम्बर से खुला है। लेकिन 10 नवम्बर को 250, 11 को 122,12 को 700 तथा 13 नवंबर को 290 यात्री ही जाने में कामयाब हुए है। क्योंकि सरकार ने पासपोर्ट को जरूरी कर रखा है। जिस वजह से बिना पासपोर्ट के करतारपुर जाने की इच्छुक हजारों लोग डेरा बाबा नानक से वापस मुड़ आए है।

जीके ने मोदी से अपील की 72 साल से खुले दर्शन दीदारे की अरदास कर रही संगत को राहत देने के लिए सरकार को आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस तथा पेन कार्ड आदि के जरिए कॉरिडोर पार करने की इजाजत भी देनी चाहिए। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष जीके ने इस संबंधी पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय समझौते में जरूरी संशोधन के लिए पहल करने की भी मोदी को सलाह दी है। जीके ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पहले ही बिना पासपोर्ट के यात्रियों को स्वीकार करने की अपने ओर से पेशकश कर चुके है, इसलिए प्रधानमंत्री को गृह मंत्रालय को इस संबंधी संभावना तलाशने के लिए कहना चाहिए। जीके ने कहा कि जब तक दोनों देशों में बिना पासपोर्ट के यात्रा को मंजूरी देनी की आम सहमति नहीं बन जाती, तब तक सरकार को अपने पोर्टल की शर्तों में रियायत देनी चाहिए। पोर्टल पर पासपोर्ट व अन्य दस्तावेज को स्कैन करके अपलोड करने की शर्त को तुरंत हटाना चाहिए। सिर्फ पासपोर्ट नंबर,पासपोर्ट की वैधता की तारीख, आवेदक का नाम, पता तथा जाने की तारीख ही आवेदन भरते समय जरूरी होने चाहिए।

जीके ने कहा कि आवेदक को 3 से 12 महीने पहले आवेदन करने की सुविधा होनी चाहिए ताकि ओसीआई कार्ड वाले अपनी छुट्टीयों अनुसार अपना कार्यक्रम पहले तय कर सकें। साथ ही एक ही आवेदक को अपने ग्रुप या परिवार के लिए आवेदन करने की छूट देनी चाहिए। ताकि अलग-अलग आवेदन की जरूरत न पड़े। साथ ही पासपोर्ट धारकों की आवेदन के बाद दुबारा पुलिस जाँच के नियम को भी हटाना चाहिए। क्योंकि पासपोर्ट बनाते समय यह प्रक्रिया एक बार पहले हो चुकी होती है। इसलिए बार-बार पुलिस का आवेदक की जाँच के लिए घर जाना तथा 2 पड़ोसीयों के आधार कार्ड के साथ आवेदक के अच्छे व्यवहार की गवाही लेना लालफीताशाही बढ़ाने वाला कदम है। इसलिए सरकार को खुले दिल से यात्रियों को जाने की छूट देनी चाहिए, क्योंकि कॉरिडोर से पाकिस्तान जाने वाले यात्री को गुरुद्वारा दर्शन के अलावा कहीं ओर जाने की मंजूरी नहीं है।

जीके ने करतारपुर जाने वाले यात्रियों के लिए पोलियो ड्राप पीने की शर्त को हटाने की माँग की। जीके ने कहा कि अगर कोई अफगानिस्तान जा रहा हो तो पोलियो ड्राप पिलाने की बात पिलाने की बात समझ आती है, लेकिन भारत की सीमा पर कुछ समय के लिए जाने वाले यात्रियों के लिए यह जरूरी नहीं होना चाहिए। क्योंकि यह यात्री तो पाकिस्तान में जाने के बावजूद वहाँ कहीं जाने या किसी से मिलने के लिए स्वतंत्र नहीं है। दुसरा कई लोगों को पोलियो ड्राप पीने से साइड इफैकट के तौर पर बुखार आदि हो जाता है। इस मौके जागो के महासचिव परमिंदर पाल सिंह, कोर कमेटी सदस्य जतिंदर सिंह साहनी, प्रवक्ता गुरविंदर पाल सिंह,जगजीत सिंह कमांडर तथा यूथ विंग के सचिव जरनैल सिंह मौजूद थे।