October 30, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

वैज्ञानिक संगोष्ठी: हृदय रोग विशेषज्ञ ने मुख्य धमनी पर दी जानकारी


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

शाहिद नकवी

प्रयागराज। अन्यूरिज्म महाधमनी की दीवार में उभार होता है, धमनिया वह रक्त वाहिकाएं होती है जो हृदय से शरीर के अन्य भागों में आक्सीजन युक्त रक्त ले जाती है। महाधमनी के बढ़ जाने के लक्षणों में पेट दर्द, पीठ दर्द, पैर दर्द, शून्य होना संभव है। कभी कभी कोई भी शारीरिक लक्षण नहीं दिखता है। यदि अन्यूरिज्म बड़ा हो जाता है तो यह फट भी सकता है और इसकी वजह खतरनाक रक्त स्राव या मौत भी हो सकती है।
यह बातें इलाहाबाद हार्ट सेन्टर, नाजरेथ अस्पताल के वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ डाॅ. ओमर हसन ने रविवार को इलाहाबाद मेडिकल एसोसिएशन के प्रागंण में आयोजित वैज्ञानिक संगोष्ठी में संबोधित करते हुए कही। उन्होंने बताया कि ज्यादातर अन्यूरिज्म एओरटा (मुख्य धमनी) में होते हैं जो छाती और पेट से होकर हृदय तक जाती है। अन्यूरिज्म का पारिवारिक इतिहास होने पर या ध्रूमपान करने वाले, 65-75 वर्ष के बीच के लोग के लिए इसके परीक्षण की सलाह दी जाती है।
डाॅ. ओमर ने अन्यूरिज्म का पता लगाने के लिए उपस्थित सभी चिकित्सकों को इमेजिंग परीक्षणों, दवाएं और सर्जरी के तरीकों से अवगत कराया। संगोष्ठी की अध्यक्षता एएमए उपाध्यक्ष डाॅ. सुजीत सिंह ने एवं संचालन सचिव डाॅ. राजेश मौर्या और वैज्ञानिक सचिव डाॅ. आशुतोष गुप्ता ने किया। संगोष्ठी में डाॅ. आरकेएस चैहान, डाॅ. जी.एस सिन्हा, डाॅ. जी.एल गुप्ता, डाॅ. स्वतंत्र सिंह, डाॅ. नीरज त्रिपाठी, डाॅ. शरद साहू, डाॅ. नागेश्वर मिश्र, डाॅ. ए.के चैबे, डाॅ. अनूप चैहान सहित अन्य चिकित्सक मौजूद रहे।