October 24, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

अयोध्या फैसले पर लालकृष्‍ण आडवाणी बोले मैं इस आंदोलन का हिस्‍सा बना, भगवान का शुक्रिया


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

अयोध्या फैसले पर लालकृष्‍ण आडवाणी बोले मैं इस आंदोलन का हिस्‍सा बना, भगवान का शुक्रिया

अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद के बीच जमीन विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्‍यीय संविधान पीठ ने आज फैसला सुनाया है। कोर्ट का फैसला आने के बाद बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता लालकृष्‍ण आडवाणी ने भी खुशी जाहिर की है।

लालकृष्‍ण आडवाणी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का तहे दिल से स्‍वागत करता हूं। आज कोर्ट के फैसले से बहुत खुश हूं और देशवासियों की खुशी में शामिल हूं। उन्‍होंने कहा कि राम मंदिर आंदोलन आजादी के बाद का सबसे बड़ा आंदोलन था। आडवाणी ने कहा कि मुझे खुशी है कि मैं मंदिर आंदोलन का हिस्‍सा बना। इसके लिए मैं भगवान का शुक्रिशा अदा करता हूं। अयोध्‍या में जो भव्‍य राम मंदिर बनेगा वो राष्‍ट्र का निर्माण होगा।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश ने जो संयम दिखाया उसका अभिनंदन करना चाहिए। भारत परिवक्व लोकतंत्र के रूप में आगे बढ़ रहा है। कानून मंत्री ने कहा कि देश में आज सौहार्द का माहौल है। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया भारत की ओर देखती है।

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक एवं प्रख्यात जैनाचार्य डॉ लोकेशजी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा श्री राम मंदिर पर दिए गए ऐतिहासिक फ़ैसले का मैं हार्दिक स्वागत करता हूं। यह फैसला भारत की महान संस्कृति ‘अनेकता में एकता को’ मज़बूत करेगा। इस फैसले से हिन्दू-मुस्लिम के बीच का फ़ासला कम होगा। देश की राष्ट्रीय एकता अखंडता और आपसी सौहार्द को और बल मिलेगा।

आध्यात्मिक गुरू श्रीश्री रविशंकर ने राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को शनिवार को ‘ऐतिहासिक’ बताया और कहा कि इससे हिंदू और मुस्लिम समुदायों के सदस्यों को ‘खुशी तथा राहत’ मिली है। रविशंकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा इस विवाद के मैत्रीपूर्ण हल के लिए पहले नियुक्त की गयी मध्यस्थता समिति का हिस्सा थे। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले का ‘तहे दिल’ से स्वागत करते हैं और लंबे समय से चल रहा मामला आखिरकार एक निष्कर्ष पर पहुंच गया है। उन्होंने लोगों से समाज में शांति और सौहार्द्र बनाए रखने का अनुरोध किया।