November 1, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

समाजसेवी पर हमले के मामले में पुलिस कर रही लापरवाही, नही हुई अभी तक FIR


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

समाजसेवी पर हमले के मामले में पुलिस कर रही लापरवाही, नही हुई अभी तक FIR
हमलावर मस्त, पुलिस सुस्त पीड़ित त्रस्त।
अभी तक चैन स्नैचिंग, लूटमार और चोरी की घटनाओं के लिए बदनाम लोनी के अंकुर विहार क्षेत्र में अब समाज के हित के लिए भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाना भी गुनाह हो गया है।
इस बुधवार रात में लोनी के अंकुर विहार में C10/9 में रहने वाले एक जागरूक समाजसेवी विनय कुमार जब अपने ऑफिस से घर जा रहे थे तभी उन पर हाथ मे पिस्टल और लाठी लिए दो बाइक सवार बदमाशों ने हमला कर दिया, एक बदमाश ने उन पर तमंचा तान लिया व दूसरे ने उन पर लाठी से ताबड़तोड़ वार किया, इससे पहले कि वो गोली चलाते आसपास के लोग आ गए और बदमाश पीड़ित को घायल अवस्था में छोड़कर भाग गए। पीड़ित को घायल अवस्था मे रात में ही स्थानीय पुलिस चौकी व लोनी थाने में ले जाया गया और तहरीर दी गई लेकिन पुलिस की ओर से अभी तक कोई कार्यवाही या जांच नही की गई। सिर्फ खानापूरी के लिए एन सी आर दर्ज कर ली गई है।
गौरतलब है कि विनय कुमार की पत्नी नीलम के दोनों हाथ उनके फ्लैट की बालकनी के बाहर से गुजर रहे हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से जलकर कट गए थे, इस घटना के बाद से विनय कुमार बिजली विभाग की लापरवाही व अनियमितताओ के खिलाफ लगातार आवाज उठा रहे है और साथ ही विद्युत विभाग के अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा भी लड़ रहे है। इसके साथ ही क्षेत्र में हो रहे अवैध निर्माणों के खिलाफ भी आवाज उठाते रहते हैं जिस कारण वो गलत काम करने वाले अधिकारियों व दलालों की आंख की किरकिरी बन चुके है, इसीलिए उनको लगातार जान से मारने की धमकी मिलती रहती हैं जिसके विषय में पहले भी पुलिस अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है।लोनी विधायक श्री नन्दकिशोर गुज्जर ने भी पुलिस अधिकारियों को मामले का संज्ञान लेकर कार्यवाही करने व एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए है, किंतु इतना सब होने के बावजूद स्थानीय पुलिस की सुस्ती कही न कही पुलिस की भूमिका पर भी प्रश्नचिन्ह लगा रही है जिससे स्थानीय जनता में काफी रोष है। स्थानीय समाजसेवी विजय मिश्रा जी का कहना है कि यदि पुलिस ने मामले की FIR और जांच में सुस्ती बरती तो स्थानीय पुलिस की शिकायत वरिष्ठ अधिकारियों से करके सुस्त पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की जाएगी।

विनोद कुमार की रिपोर्ट