October 23, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

पत्रकार पंकज हिरवे आत्महत्या के आरोपियों को अभी तक नहीं पकड़ पाई पुलिस


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

शाजापुर गत 3अक्टूबर को शाजापुर अनादि टीवी संवाददाता शाजापुर पंकज हिरवे सुसाइड केस में एक नया मोड आया है. पंकज हिरवे ने सल्फास की गोलियां खा ली थी जिसके चलते उन्हें इंदौर रेफर कर दिया गया था. इंदौर मुंबई अस्पताल मैं इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई .प्रथम दृष्टया यह मामला पुलिस को भी सुसाइड केस का लग रहा था और सभी लोग उसको सुसाइड केस मानकर चल रहे थे. इसी बीच उनके माता-पिता ने एसपी पंकज श्रीवास्तव को आवेदन लिख कर दिया और उन्होंने कहा कि उनके बेटे का मर्डर हुआ है ना कि सुसाइड. क्योंकि मृतक पंकज हिरवे का मोबाइल अभी भी लापता है. पंकज श्रीवास्तव ने मामले की गंभीरता को समझते हुए इन्वेस्टिगेशन टीम को गठित किया और आज टीम ने पूरा उस जगह का मुआयना किया जहां पर सुसाइड हुआ था. मौके पर लालघाटी थाना प्रभारी अनिल कुमार भी टीम के साथ मौजूद थे. उन्होंने बताया कि मौके से पाने की ,शराब की बोतल और अन्य सामग्री के सैंपल लिए गए है .फॉरेंसिक जांच रिपोर्ट के बाद ही पूरे मामले का खुलासा हो पाएगा किस में सुसाइड है या मर्डर

पत्रकार पंकज सुसाइड केस में पांच आरोपी शाजापुर पुलिस की गिरफ्त में आए थे जिसमें से दो मुजरिमों  को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है एवं उन पर धारा 302 के तहत एवं एससी एसटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया गया था लेकिन आज तक बाकी के तीन फरार मुजरिमों का शाजापुर पुलिस नहीं पकड़ पाई है जो कि शाजापुर पुलिस की एक बड़ी नाकामी है कहीं या तो नहीं कि शाजापुर पुलिस ने राजनीतिक दबाव के चलते पंकज हिरवे मर्डर केस को दबाने की कोशिश कर रही है वही एक आरोपी सीपी चावड़ा सट्टा मार्केट चलाता है जो अभी तक फरार है शाजापुर पुलिस की एक बहुत बड़ी नाकामी है
जोकि शाजापुर पुलिस पत्रकार पंकज हिरवे हत्याकांड के आरोपियों को अभी तक नहीं पकड़ पाई है इसके बीच कई बार आरोपियों ने अग्रिम जमानत भी लगाई लेकिन कोर्ट ने अग्रिम जमानत खारिज कर दी थी

अविनाश सिंह चौराड़िया शाजापुर