October 30, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

उज्जैन प्राचीन महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के कर्मचारियों की वेतन में भेदभाव।


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

उज्जैन प्राचीन महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के कर्मचारियों की वेतन में भेदभाव।

महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति की विभिन्न इकाइयों में लगभग 330 कर्मचारी स्थाई रूप से अपनी सेवाएं दे रहे हैं जिन्हें मंदिर समिति द्वारा अनुमोदित स्वीकृत दर से वेतन दिया जा रहा है।
कई समय से मंदिर समिति द्वारा 300 से अधिक कर्मचारी कार्य कर रहे हैं उन्हें नियम के अनुसार प्रत्येक कर्मचारी को वेतन वृद्धि का लाभ मिलना चाहिए लेकिन सभी कर्मचारियों को ना मिलते हुए सिर्फ 2 कर्मचारी पीयूष त्रिपाठी एवं विपिन एरन को ₹6000 प्रति माह के हिसाब से वेतन वृद्धि हो चुकी बाकी अन्य कर्मचारियों को वेतन वृद्धि नहीं हुई जिससे मंदिर समिति के संपूर्ण कर्मचारियों मे आक्रोश है बताया जाता है उज्जैन जिलाधीश मनीष सिंह द्वारा इन 2 कर्मचारियों को वेतन लाभ दिया गया लेकिन बाकी अन्य को नहीं दिया गया जिससे पता चलता है वेतन वृद्धि को के चलते कर्मचारियों में भेदभाव पूर्ण व्यवहार किया गया है।
सूत्रों से मिली जानकारी समस्त कर्मचारी महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री धर्मस्व मंत्री प्रभारी मंत्री जिलाधीश मंदिर समिति के अध्यक्ष पंडित विजय शंकर पुजारी पंडित आशीष पुजारी साहित कई विभागों में लिखित शिकायत की गई हैं।
यदि नियम के अनुसार वेतन वृद्धि मिलना थी तो सभी मंदिर समिति के कर्मचारियों को यह लाभ मिलना चाहिए किसी दो विशेष व्यक्ति को इस प्रकार का वेतन वृद्धि लाभ मिला भेदभाव पूर्ण होने के बराबर मानी जाती हैं।