October 26, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

प्रयागराज में भैया दूज यम द्वितीया पर्व के रूप में मनाया जाता है इसकी अलग ही पौराणिक मान्यताएं है


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

BBC LlVE NEWS

प्रयागराज में भैया दूज यम द्वितीया पर्व के रूप में मनाया जाता है इसकी अलग ही पौराणिक मान्यताएं है
प्रयागराज में दीपावली के बाद कार्तिक मास के शुक्ल द्वितीया को भाई दूज एवं दूसरे शब्दों में यम द्वितीया पर्व मनाने का कुछ अलग ही पौराणिक महत्व है । पौराणिक मान्यताओं के अनुसार यम द्वितीया वाले दिन यमुना अपने भाई यमराज को तिलक लगाकर उनकी पूजा की थी तो इसी में यमराज ने अपनी बहन से यह पूछा कि जो वरदान मांगना है मांग लो तो यमुना ने यमराज से यह वरदान मांगा कि जो भी बहन अपने भाई को भैया दूज पूजेगी उसे यम का भय नहीं होगा इस मांग को सुनने के बाद यमराज ने यमुना को तथास्तु बोल दिया था तब से लेकर आज तक भैया दूज यानी कि यम द्वितीया पर्व मनाया जाता है ।

बात करें प्रयागराज की तो प्रयागराज स्थित भीटा सुजावन देव जो कि यमुना किनारे बसा हुआ है यहां पर ऐसी मान्यताएं हैं कि जिस समय यमुना ने यमराज को भाई दूज पूजन किया था तो इसी जगह पर उनको यह वरदान मिला था और रामायण कथाओं के अनुसार भगवान श्री राम लंका से लौटते समय चित्रकूट मैं रुके और वहां पर दीप जलाने के बाद सीधा प्रयागराज स्थित भीटा सुजावन देवता मंदिर पर पहुंचकर कर यम द्वितीय वाले दिन स्नान किया और यमुना नदी में भोग अर्पित किया और उसके बाद वह अयोध्या लौट गए तो इसी प्रकार से दोनों मान्यताओं को स्वीकृत करते हुए प्रयागराज के सुजावन देव में हर वर्ष दीपावली के तीसरे दिन मतलब गोवर्धन पूजा बीतने के बाद भाई दूज यम द्वितीय दिवस वाले दिन भीटा सुजावन देव में एक विशाल मेले का आयोजन किया जाता है जो 2 दिन तक चलता है इस मेले में लाखों की तादाद में श्रद्धालु आते हैं और यमुना नदी में स्नान करके भोग लगाने के बाद सुजावन देव मंदिर जो कि बीच यमुना नदी में स्थित है वहां पर शिव जी की पूजा अर्चना करते हैं । बात करें इस मेले की तो मेले में एक और मान्यता है कि गौतम बुद्ध भी एक अपना बौद्ध स्थली भीटा की पहाड़ियों में स्थापित कर रखा है मेले में भारत के विभिन्न क्षेत्रों से श्रद्धालु चित्रकूट से लौटने के बाद यहां पर आकर स्नान करते हैं ।
मेले में प्रयागराज के विभिन्न क्षेत्रों से ग्रामीण एवं शहरी लाखों श्रद्धालु एकत्रित होते हैं और इस मेले में तरह तरह की चीजों की खरीदारी करते हैं एवं मेले का आनंद उठाते हैं । मेले में आपको गृहस्ती की हर एक चीज उचित दामों पर मिल जाती हैं और इस मेले को सकुशल संपन्न कराने की पूरी जिम्मेदारी प्रयागराज के जिला पंचायत की होती है जिसमें पुलिस की भागीदारी अहम है मेले में प्रशासन की पुलिस आला अधिकारी पूरे 2 दिन तक मुस्तैद रहते हैं और किसी भी अवरोधक गतिविधि को निपटाने में अपनी कार्यक्षमता दिखाते हैं।
लेकिन इस वर्ष का मेला अव्यवस्थाओं में ही चल रहा है बात करें श्रद्धालुओं की तो ऐसी विषम परिस्थिति में भी श्रद्धालुओं की श्रद्धा भारी पड़ रही है जो यमुना स्नान करने के लिए घुटने बराबर कीचड़ में घुसकर स्नान करने के लिए जाते हैं और घुटने बराबर कीचड़ में घुसकर वापस निकलते हैं इस बार मेले में क्राइम इनफार्मेशन ब्यूरो आफ इंडिया के जिला अध्यक्ष परवेज आलम और उनकी टीम के लोगों ने भी मेला में बढ़-चढ़कर सहयोग किया चोर उचक्के भोले भक्तों को

BBC LlVE NEWS प्रयागराज
रिपोर्टर परवेज आलम