October 30, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

दिल्ली:- न्यू उस्मानपुर सूफी कलुआ का हत्यारा रिजवान अली हुआ अरेस्ट।


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

आईएससी चाणक्यपुरी की क्राइम ब्रांच ने रिजवान अली को एक रिवाल्वर तीन जिंदा कारतूस तीन चले हुए कारतूस ओर चोरी की स्कूटी के साथ गिरफ्तार किया।

26 सितंबर को उस्मानपुर दिल्ली के व्यस्त बाजार में लगभग 5:00 बजे मोहम्मद हसन और सूफी कलवा को उपरोक्त व्यक्ति और उसके सहयोगी अनवर उर्फ राजू बैचेन ने दिन के उजाले में ही गोली मार दी थी घटना में दिल्ली की उस्मानपुर थाने में एफ आई आर नंबर 734/ 19 अंडर सेक्शन 302 / 34 आईपीसी और 27/ 54/59 आर्म्स एक्ट दर्ज किया गया था तभी से आरोपी लगातार भाग रहे थे।

इंस्पेक्टर नीरज चौधरी की अगुवाई में क्राइम ब्रांच में एसआई कुलदीप, एसआई मनोज यादव , एसआई मिंटू, एसआई सतीश , एएसआई रमेश, एएसआई राजेश, हेड कांस्टेबल सुरेंद्र, हेड कॉस्टेबल शैलेंद्र, हेड कोस्टेबल सचिन, हैंड कॉस्टेबल दिनेश, हेड कांस्टेबल राकेश और कांस्टेबल प्रशांत की टीम बनाई गई। आरोपियों के ठिकाने का पता लगाने के लिए उपरोक्त अधिकारियों की एक टीम गठित की गई थी टीम की गहन मेहनत के परिणाम से धौला कुआं के पास रिजवान अली के होने की जानकारी प्राप्त हुई जिसका उद्देश्य धौला कुआं एयरपोर्ट से आने वाले यात्रियों को लूटना था।

गुप्त जानकारी के आधार पर समय बर्बाद किए बिना इस टीम ने 18/ 19 अक्टूबर की मध्य रात्रि में आरोपी रिजवान अली की हरकत पर नजर रखी और धौला कुआं से करोल बाग की ओर जाती हुई स्कूटी को जब टीम ने शंकर चौक गोल चक्कर के पास रुकने का इशारा किया तो उसने स्कूटी भगा दी फिर पुलिस टीम ने स्कूटी के सामने जिप्सी लगाकर उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन उसने अपनी स्कूटी को गिरा दिया और झाड़ियों और पेड़ों की ओर भाग गया, उसने अपने हथियार से पुलिस पार्टी पर 3 राउंड फायरिंग की पुलिस पार्टी ने भी जवाबी कार्रवाई की और 5 राउंड फायरिंग की । एक गोली रिजवान के बाएं पैर के निचले हिस्से में लगी, घायल आरोपी को तुरंत पुलिस जिप्सी में आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया, उसके बाद f.i.r. नंबर 319 US 382 /411 आईपीसी 25/ 27 /64 का एक मामला दर्ज किया गया, रिजवान जिस स्कूटी पर था यह स्कूटी भी नन्दनगरी क्षेत्र से चोरी की गई थी।

पूछताछ के दौरान पता चला कि आरोपी रिजवान उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के साकनी का रहने वाला है सह आरोपी राजू बेचैन और मृतक सूफी कलवा भी उसी गांव के निवासी हैं, इस समय यह सभी उस्मानपुर इलाके में रह रहे थे। कुछ पैसे के लेनदेन को लेकर इनमें आपस में विवाद था, रिजवान पहले मुंबई मलाड में बिल्डर के रूप में काम कर रहा था, वह दिल्ली आया करता था और हर बार राजू बेचैन के साथ अपराध में शामिल होता था दिसंबर 2018 में राजू बेचैन और रिजवान दोनों ने गंगानगर राजस्थान में अपने प्रतिद्वंद्वियों पर गोलीबारी की और f.i.r. नंबर 411 अट्ठारह अंडर सेक्शन 334 आईपीसी में इन्हें गिरफ्तार भी किया गया। पुरानी आबादी गंगानगर राजस्थान में यह मामला दर्ज है , बाद में रिजवान 3 सितंबर 2019 को मुंबई से राजू बेचन के कहने पर दिल्ली आया राजू बैचेन ने उसे अपनी मदद करने पर ₹500000 के भुगतान करने का आश्वासन भी दिया था। इस समय पैसे की आवश्यकता होने के चलते वे डकैती की योजना भी बना रहे थे।

अभियुक्तों का चालान

एफ आई आर नंबर 411/18 US 307/ 34 आईपीसी में गंगानगर कोर्ट से एनबीडब्ल्यू है, और गंगानगर कोर्ट में मामला विचाराधीन है। एफ आई आर नंबर 734/19 US 302/ 34 आईपीसी और 27/59 आर्म्स एक्ट दिल्ली में भी ये वांछित है।

इनके पास से एक देशी रिवाल्वर जिसका नंबर मिटाया गया है तीन जिंदा कारतूस और तीन चले हुए खोखे और एक स्कूटी जो नंद नगरी एरिया से चुराई गई थी बरामद हुई है।