October 30, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

शाजापुर जिले में हुये स्कुल हादसे का जिम्मेदार कौन,


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

शाजापुर जिले में हुआ स्कुल हादसे का जिम्मेदार कोन, क्या शिक्षा विभाग और RTO अधिकारी कर रह थे 3 बच्चों की मौत का इंतजार., मोत के कुवें में जिला शिक्षा अधिकारी ने क्यों दी स्कुल चलाने की मान्यता

हम बात कर रहे पिछले दो दिन पहले शाजापुर के रीछोदा गांव में हुए स्कुल हादसे से की जिस में बच्चों से भरी मारुती वेन कुवें में गिर गई थी और पानी में डूबने से 3 मासूम बच्चों की जिंदगी भी डूब गई और तिन घर के चिराग दीपावली आने से पहले ही भुझ गए और उस मोत के कुवें में उन तिन घरो के चिराग हमेशा हमेशा के लिए डूब गए लेकिन अब सब से बड़ा सवाल यह हे की इस मोत का जिमेदार कोन है महज स्कुल से 8 फिट की दुरी पर ही कुआ खुदा हुआ था और जब स्कुल के पास कुआ था तो फिर स्कुल को मान्यता कैसे मिली किसने दी मान्यता और जिला शिक्षा अधिकारी और ब्लाक शिक्षा अधिकारी ने स्कुल का निरीक्षण क्या आँखे बन्द कर करते थे जिला शिक्षा अधिकारी ने स्कुल की मान्यता क्यों दी और अगर हम RT 2011 के नियमों की बात करे तो गजट में साफ़ साफ लिखा हे की जिला अधिकारी की सन्तुष्टी होने पर ही स्कुल को मान्यता दी जाए फिर इस अधिकारी को यह मोत का कुआ क्यों नही दिखा और क्या स्कुल में मारुती वेन बच्चों को लेकर जा रही थी उस को RTO से पर्मिशन थी क्या TRO द्वारा 22 बच्चे बैठने का परमिट मिला था और नही मिला तो RTO को और पुलिस वालो को ये स्कुल वाहन दिखाई क्यों नही दे ते जो मासूम बच्चों को जानवरो की तरह ठुस ठूस कर लेजा रहे हे आखिर इन जिमेदरो को ये सब क्यों नही दिखाई देता हे

हम बताते हे आप को की इन जिम्मेदारो को ये मोत का कुआ और ये मैजिक वेन दिखाई क्यों नही दिया इस का कारण हे भ्रष्टाचार इन जिम्मेदारो को स्कुलो की गलतियां छुपाने के लिये मोटी रकम मिलती हे और कल RTO मेडम ने दिखवे के लिए स्कुल बस संचालको को ऑफिस बुला कर दिन भर स्कुल सनचलको और बस मालिको से जाच के नाम पर दिखावा करती रही RTO मेडम और कल मेडम ने रीछोदा का नाम सुन कर मीडिया से बात करना भी ठीक नही समझा और आज इन भ्रष्टाचारियों की वजह से इस तरह के हादसे होते हे और होते रहेंगे वही हम आप को बता दे की हमने हमारे चैनल के माध्यम से कई बार स्कुलो की लापरवाही को उजागर किया था लेकिन जिला शिक्षा अधिकारी और RTO अधिकारी की आँखे ही नही खुली और जिले का शिक्षा अधिकारी RTO अधिकारी अपनी आँखों पर भरस्टाचार की पट्टी बाधे अपने एयर कंडीसन कमरे में बेठ सब तमासा देख रहे थे और जब रिछोदा जेसे हादसे होते हे तब अपने ऑफिस से निकल कर दिखवा करने के लिए आते हे और आनन फानन में स्कुल की मान्यता को रद्द करते हे और ब्लाक अधिकारी को निलंबित कर दिखवा करते हे

वही हम आप को बता दे की आज शाजापुर जिले में ऐसे मोत के स्कुल कई जगह संचालित हो रहे हे और शिक्षा विभाग ने मोटी रकम लेकर सारे नियमों को तक पर रखकर इन को मान्यता दी हे और बेखोप गली मोहले में इस तरह के मोत के स्कुल चल रहे हे
इस घटना के कलेक्टर ने मजिस्ट्रेट जाँच के आदेश दिए हे वही अब देखना यह हे की क्या इस तरह के लापरवह जिला शिक्षा अधिकारी और ब्लॉक शिक्षा अधिकारी पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही होगी या ये भ्रष्टाचारियों ही रिश्वत लेकर मोत का खेल खेलते रहेंगे और चन्द रुपये के लिए मासूमो की जिंदगी को डुबो ते रहेंगे वही मृतक बच्चों के माता पिता ने कहा की इस में सब से बड़ा दोसी शिक्षा विभाग हे और इन पर F I R होना चाहिए आज हमारा तो पूरा घर ही उजड़ गया वही एक परिवार में तो दो बच्चे ही थे और दोनों की दर्द नाक मोत हो गई। वही जल संसाधन मंत्री हुकम सिंह कराड़ा और सांसद महेंद्र सोलंकी रिछोदा पहुंचे थे लेकिन दोषियों को अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई

शाजापुर से दिलीप सौराष्ट्रीय की रिपोर्ट