October 28, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

शहर शहर रणचंडी नाचे, शहर शहर श्मशान जले

यौवन ओर तरुणाई जल गई, बासन्ती अरमान जले,काश्मीर की घाटी में, सिंहों के सम्मान जले।...
यौवन ओर तरुणाई जल गई, बासन्ती अरमान जले,
काश्मीर की घाटी में, सिंहों के सम्मान जले।

वीर सपूत हुए न्योछावर, बातों की बलिवेदी पर,
सिखण्डियों के बात वीरता, सारा हिंदुस्तान जले।

जन्नत की खातिर वो सारे, जन्नत नरक बनाते है,
पाकिस्तानी जिहाद में , भारत का वीर जवान जले।

युद्ध पूर्ण आहुति होगी, पाकिस्तानी वाणी को,
मृत्यु के शवदाहों में, ये सारा पाकिस्तान जले।

फिर दहशतगर्दी, फिर शहादत बात बता कैसे होगी,
बातों की बलिवेदी पर, फिर से क्यों इंसान जले।

बारूदों की खेती करते, हमसे कमल की आस लिए,
एटमों से फट जाओ अब, बारूदी दुकान जले।

इस्लामाबाद, लाहौर,कराची, चाहे रावलपिंडी हो,
शहर शहर रणचंडी नाचे, शहर शहर श्मशान जले।