October 31, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

फिर ना लहूलुहान हो, मेरा हिंदुस्तान

मानक नए बनाये तुम, हरिजन के पग धोई,तेरा सोचा तू करे, और ना करिए कोई।**...
मानक नए बनाये तुम, हरिजन के पग धोई,
तेरा सोचा तू करे, और ना करिए कोई।
**

तेरे मन की बात का कोई न जाननहार,
कब क्या करेगा तू जाने, या जाने करतार।
**
पाक पे भी तेरी कोई, ऐसी नीति होय,
पेशावर शमसान हो, रावलपिंडी रोय।
**
सोकर अल सुबह उठे, कानों हो समाचार,
भारतीय फौज नास्ता करें, लाहौर के पार।
**
अजहर की मजार पर, नाचें गाये स्वान,
फिर ना लहूलुहान हो, मेरा हिन्दुस्तान।
**