July 8, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

कायर दिल्ली के कारण, करें परवाज सीमा पर

तुम्हारे दम से ऐंठे है, ये पत्थरबाज सीमा पर,
कायर दिल्ली के कारण, करें परवाज सीमा पर।

है अफजल और अजमल की, फांसी के विरोधी जो,
भारत मुर्दाबाद की देते वही, आवाज़ सीमा पर।

कल विद्यालयों में सक्रिय, जो टुकड़ा गैंग था देखो,
वही पुलवामा में था और वही है आज सीमा पर।

मेरे वतन की नश नश में, केंसर से पल रहे,
कोढ़ है ये देश के, ये खाज सीमा पर।

ना भटका हुआ इनको बताते, मुफ़्ती से नेता,
इनके घर का होता जो, सूद और ब्याज सीमा पर।

ठोको सरहद पे उनको, इधर इनके टिकट काटो,
सुरक्षा ले के है बैठे, जो करते राज सीमा पर।

पलते हमारे देश मे, जिहाद की ये ठान कर,
पाकिस्तान से उड़ते, ये कातिल बाज़ सीमा पर।