July 6, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

एक राज्य और एक राष्ट्र का केवल प्रावधान चले

धारा ये हटाने की मत हिम्मत करना,
चेताती है तुमको महबूबा वरना।
समझ नही पाओगे कितना खून बहेगा,
कश्मीरी अत्याचार नही अब और सहेगा।

धमकी है खुली ये, दिल्ली सिंहासन को,
बन्द करो मोदी चुनावी संभाषण को।
पहले इनको पकड़ो ठुंसो जेल में डालो,
पाक से निपटो बाद में, पहले इन्हें मिटालो।

बाहर दुश्मन ढूंढ रहे, पर घर मे ये जयचन्द छिपे,
भारत को मिटवाने को यहाँ विभीषण चंद छिपे।
पहले हमें निबटना घर मे छुपे हुए गद्दारों से,
भारत लहूलुहान हुआ, पीठ में लगते वारों से।

जनमानस को बहका कर, ये पत्थरबाज बनाते है,
दिल मे नफरत पैदा कर, भारत मुर्दाबाद कहाते है।
विशेष राज्य की सब सुविधाएं, काश्मीर से वापिस लो,
तीन सौ सत्तर और पेंतीस, काश्मीर से वापिस हो।

काश्मीर में अमन जो चाहो, भारत का संविधान चले,
एक राष्ट्र और एक राज्य का, केवल प्रावधान चले,
भारत विरोध का शब्द मात्र भी, देशद्रोह कहलाये,
महज तिरंगा, सहज तिरंगा, काश्मीर में फहराए।

सत्ता लोलुप नेताओं के, पल में सब अरमान जले,
भारत विरोधी मानसिकता के, सारे अब शैतान जले,
काश्मीर को पाक मिलाने, जिनके मन तूफान पले,
आतंकियों के साथ साथ अब सारा पाकिस्तान जले।