October 28, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

कमलेश तिवारी हत्याकांड: दुबई का कंप्यूटर ऑपरेटर है मास्टमाइंड, हत्या के लिए सूरत से खरीदी पिस्टल


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

यूपी डीजीपी ओम प्रकाश सिंह अब से कुछ ही देर में लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस करेंगे। यह प्रेस कॉन्फ्रेंस पुलिस मुख्यालय (सिग्नेचर बिल्डिंग), गोमती नगर विस्तार के मीडिया ब्रीफिंग हॉल में की जाएगी।

बता दें कि हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड में दो मौलाना गिरफ्तार कर किया है। जबकि गुजरात के सूरत से छह संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया है।

ट्विटर पर बिजनौर के इमाम का पुराना वीडियो पोस्ट कर उन्हें हत्या का दोषी मान रहे हैं लोग, इस विडिओ में कमलेश के हत्यारे को 51 लाख रूपये देने की बात कही थी

कमलेश के हत्यारे को 51 लाख रूपये देने की बात कही थी

वहीं, कमलेश का शव अंतिम संस्कार के लिए सीतापुर उनके गांव पहुंच चुका है। कमलेश की मां ने परिवार के दो सदस्यों के लिए नौकरी की मांग की है, और यह भी कहा है कि जब तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नहीं आएंगे तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

कमलेश तिवारी हत्याकांड: दुबई का कंप्यूटर ऑपरेटर है मास्टमाइंड, हत्या के लिए सूरत से खरीदी पिस्टल

लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी के सनसनीखेज मर्डर में बड़ा खुलासा हुआ है। हत्या के तार गुजरात के सूरत से जुड़े हैं। गुजरात एटीएस का दावा है कि हत्या की साजिश सूरत में रची गई जिसमें से तीन लोगों को एटीएस ने हिरासत में ले लिया है। इनमें मौलवी मोहसिन शेख, रशीद पठान और फैजान पठान शामिल हैं जिन्हें यूपी पुलिस को सौंपा जाएगा, जबकि दो शूटर अभी फरार हैं। गुजरात एटीएस ने दावा किया है कि कमलेश तिवारी की हत्या के लिए सूरत से पिस्टल खरीदी गई थी।

हिंदू महासभा के पूर्व नेता कमलेश तिवारी की लखनऊ में गोली मारकर हत्या, सीएम योगी ने मांगी जांच रिपोर्ट

कमलेश तिवारी हत्याकांड : पूरे 36 मिनट कमलेश के साथ रहे कातिल, परिवार का अंतिम संस्कार से इनकार

यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस

इस जघन्य हत्याकांड पर यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ’24 घंटे के भीतर केस सुलझाया गया है।
कमलेश तिवारी की निर्मम हत्या के बाद हमने कई छोटी-छोटी टीमों का गठन किया और उनको प्रदेश के बाहर भी तार जुड़े होने की जांच करने को कहा। गुजरात पुलिस और यूपी पुलिस के साझा प्रयास से हमने 3 व्यक्तियों को हिरासत में लिया। उनसे सघन पूछताछ की जा रही है।’ सिंह ने कहा कि मिठाई का डिब्बा जांच में अहम सुराग बना। उन्होंने कहा कि सूरत से तीन संदिग्धों मोहसिन शेख, फैजान और रशीद पठान को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है।

2 संदिग्धों पर रखी जा रही है नजर
यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि दो और संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया था लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया। उन्होंने कहा कि हालांकि उनपर नजर रखी जा रही है। सिंह ने आगे कहा, ‘आरोपियों के आपराधिक रिकॉर्ड की भी जांच की जा रही है। रशीद पठान जो पेशे से दर्जी है और कंप्यूटर में भी एक्सपर्ट है, घटना का पूरा प्लान बनाया जबकि मौलाना मोहसिन ने ही हत्या के लिए उकसाया। घटना के तार इतनी दूर से जुड़े होने के बावजूद अभी तक इसका कोई आतंकी कनेक्शन सामने नहीं आया है।’ उन्होंने कहा कि प्रथमदृष्टया हत्या की वजह कमलेश तिवारी के भड़काऊ बयान लग रहे हैं जिसको लेकर आरोपियों में नाराजगी थी।

दुबई में काम करता है एक आरोपी
गुजरात एटीएस ने कहा कि जिन तीन लोगों को पकड़ा गया है उनमें से एक कंप्यूटर ऑपरेटर है जो दुबई में काम करता है। ये शख्स पूरी साजिश का मास्टरमाइंड है जबकि दूसरा आरोपी मेडिकल रिप्रजेंटेटिव है। एटीएस के मुताबिक मौलवी मोहसिन शेख, रशीद पठान और फैजान मेंबर ने करीब छह महीने पहले हत्या की साजिश रची और 16 अक्टूबर को मिठाई का डब्बा लेकर लखनऊ पहुंचे।परिजनों ने की मुआवजे और नौकरी की मांग
बता दें कि लखनऊ में हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या से बवाल मचा हुआ है। परिवार ने सरकार से 5 करोड़ का मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को नौकरी की मांग की है। परिवार का कहना है कि जब तक मांग पूरी नहीं हो जाती वो अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। कमलेश तिवारी की पत्नी किरण तिवारी की शिकायत पत्र में बिजनौर के दो मौलानाओं का जिक्र है जिनके नाम नसीम क़ासमी और अनवारुलहक़ हैं। दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है लेकिन जब तलाशी शुरू हुई तो दोनों लापता हैं। 2015 में अनवारुलहक़ ने कमलेश तिवारी का सिर कलम करने वालों को 51 लाख के इनाम का ऐलान किया था।

हिंदू महासभा छोड़ कमलेश ने बनाई थी पार्टी
कमलेश पहले हिन्दू महासभा में बड़े पद पर थे। कुछ महीने पहले इन्होंने अपनी पार्टी बनाई। लखनऊ में हजारों की संख्या में कमलेश तिवारी को जानने वाले हैं और जब पता चला कि उनकी हत्या हो गई है तो सब गुस्से से आग-बबूला हो गए। परिवार का गुस्सा आधी रात को उस वक्त और बढ़ गया जब पांच घंटे हो गए थे और शव परिवार वालों को सौंपा नहीं जा रहा था।

परिजनों से मिलने गए थे दिनेश शर्मा लेकिन…
यूपी के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा परिवार वालों से मिलने आए थे लेकिन लोगों का गुस्सा इतना ज्यादा था कि उन्हें दरवाजे पर पहुंचने तक नहीं दिया गया। देर रात परिवार वालों को शव सौंपा गया। पूरा का पूरा प्रशासन कमलेश तिवारी के घर पर खड़ा है। कमलेश तिवारी ने 2018 में अपनी हत्या की आशंका जताई थी, सरकार की ओर से सुरक्षा भी मिली लेकिन कातिल अपने प्लान में कामयाब हो गए। परिवार वाले हत्यारों के लिए फांसी की सजा मांग रहे हैं।

पूर्व में हिंदू महासभा से जुड़े हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की बेरहमी से हत्या के बाद सोशल मीडिया पर माहोल गर्मा गया है. लोग कमलेश तिवारी की हत्या को चार साल पहले की घटना से जोड़कर देख रहे हैं. ट्विटर पर #KamleshTiwari ट्रेंड कर रहा है. कुछ साल पहले कट्टर हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी की थी. उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून यानी रासुका भी लगा था. वहीं बिजनौर के एक मुस्लिम गुट ने फतवा जारी कर कमलेश तिवारी का सिर कलम करने वाले को 51 लाख रुपये देने का एलान किया था. मृतक तिवारी सुप्रीम कोर्ट में चले अयोध्या राम मंदिर बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले में हिंदू महासभा की तरफ से पक्षकार भी रहे थे. अब कमलेश तिवारी की हत्या के बाद प्रदेश का सांप्रदायिक माहौल गर्मा गया है.

ट्विटर पर बिजनौर के इमाम का पुराना वीडियो पोस्ट कर उन्हें हत्या का दोषी मान रहे हैं. इस वीडियो में उन्होंने कहा था कि कमलेश तिवारी जहां कहीं भी हैं, मुस्लिम उन्हें सजा जरूर देंगे. लोग पूछ रहे हैं कि अभी तक इमाम को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है.

दूसरी तरफ पुलिस ने घटनास्थल के आस-पास के सीसीटीवी फुटैज खंगाले हैं, जिसमें सामने आया है कि दो हत्यारे भगवा कपड़े पहनकर आए थे और घटना को अंजाम दिया. बताया जा रहा है कि इन दोनों ने पहले मृतक के साथ बैठकर चाय पी और फिर चाकू से गला रेत कर उनकी बेरहमी से हत्या कर फरार हो गए.

ट्विटर पर लोगों का कहना है कि जब हत्यारे भगवा कपड़ों में थे तो उनकी हत्या किसी हिंदू ने ही की होगी. या फिर किसी करीबी ने उन्हें निजी कारणों की वजह से मौत के घाट उतार दिया है