October 27, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

मध्यप्रदेश:- 12 जिलों में फिर जारी हुआ यलो अलर्ट, बाढ़ से अब तक 674 की मौत


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

प्रदेश के 12 जिलों में फिर जारी हुआ यलो अलर्ट बाढ़ से अब तक 674 की मौत

अहमदनूर अगवान
भोपाल। मध्यप्रदेश में भारी बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। अक्टूबर शुरू हो गया है लेकिन कई जगहों पर मॉनसून की मार कम होने का नाम नहीं ले रही है। जिससे लोगों का जीवन ठहर सा गया है। भारी बारिश के बाद कई इलाकों में सड़क से लेकर घरों में पानी भर गया है। एक बार फिर मध्य प्रदेश के 12 ज़िलों में मौसम विभाग ने बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। राजधानी भोपाल में भी तेज बारिश की बौछारों का सिलसिला जारी है। प्रदेश में अबतक अतिवृष्टि और बाढ़ से 674 लोगों की मौत हो चुकी है।
मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश के आगर, शाजापुर, राजगढ़, गुना, अशोकनगर, नीमच, मंदसौर, दतिया, शिवपुरी, श्योपुरकला, टीकमगढ़, छतरपुर में येलो अलर्ट जारी किया है। यहां गरज चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। वहीं, रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, पन्ना, सागर, टिकमगढ़, दमोह, छतरपुर, उज्जैन, नीमच, रतलाम, शाजापुर, देवास, आगर, मंदसौर, दतिया, गुना, ग्वालियर, शिवपुरी, अशोक नगर, श्योपुर जिल में भी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।
674 लोगों की अबतक गई जान
अतिवृष्टि, बाढ़ एवं वर्षा जनित हादसों में अब तक 674 लोगों की मत्यु हुई है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार बाढ़ से इस दौरान प्रदेश में एक हजार 888 पशुओं की भी मौत हुई है। भारी वर्षा से 1 लाख 18 हजार 386 भवन क्षतिग्रस्त हुए हैं। इनमें अनेक भवन पूर्ण रूप से नष्ट हो गए जबकि कुछ भवनों को आंशिक क्षति पहुंची। प्रदेश में लगभग 55 लाख 36 हजार 517 किसान और 60.47 लाख हेक्टेयर कृषि-भूमि प्रभावित हुई है। प्रदेश में वर्ष 2013 के बाद इस वर्ष सर्वाधिक 1203 मिमी वर्षा दर्ज की गई। अति-वर्षा और बाढ़ से खेतों में उड़द और सोयाबीन की फसलों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।