July 3, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

भरण-पोषण भत्ता के लिए जुटी प्रवासियों की भीड़, जमकर उड़ाई गई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

*नियमों का पालन करवाने की बजाय संबंधित कर्मचारी बने रहे मूकदर्शक*

*जौनपुर* । कोरोना महामारी से निपटने के लिए लॉक डाउन जैसे नियम लागू कर सरकार एक तरफ जहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने में जुटी हुई है तो वहीं दूसरी तरफ अन्य प्रदेशों से अपने गृह जनपद पहुंच रहे प्रवासी मजदूरों को भरण-पोषण भत्ता के रूप में ₹1000 देने का काम कर रही है। जो बेहद ही सराहनीय है लेकिन भरण-पोषण भत्ता के लिए ग्राम सभाओं में भरवाए जा रहे फार्म के दौरान जुट रही प्रवासियों की भीड़ कहीं ना कहीं सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते नजर आ रही है। खास बात तो यह है कि उक्त स्थल पर मौजूद अधिकारी व कर्मचारी लोगों से नियमों का पालन करवाने के बजाय अपनी चाल में मदमस्त नजर आ रहे हैं।
कुछ ऐसा ही नजारा केराकत थाना क्षेत्र स्थित ग्राम सभा खरगसेनपुर प्राथमिक विद्यालय पर देखने को मिला, जहां सरकार के निर्देशानुसार संबंधित विभाग द्वारा अपने घर पहुंचे प्रवासी मजदूरों को भरण-पोषण भत्ता देने के लिए फार्म भरवाने का काम किया जा रहा है और उक्त स्थल पर प्रवासी मजदूरों की भीड़ भी जुट रही है , जो सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने का काम कर रही है। बावजूद इसके मौके पर संबंधित अधिकारी और कर्मचारी के कान पर जूं नहीं रेंग रहा है।

हाल ये है कि यह सरकारी नुमाइंदे लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने के बजाय खुद भी उसी माहौल में मशगूल नजर आ रहे हैं।
जबकि सरकार का सख्त आदेश है कि प्रत्येक जगहों पर पहुंचे प्रवासियों को क्वॉरेंटाइन करने के साथ-साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाए। लेकिन संबंधित अधिकारियों कर्मचारियों की बेपरवाही के कारण लोग सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने से बाज नहीं आ रहे हैं। कहीं ना कहीं यही वजह है कि यह महामारी दिन-प्रतिदिन विकराल रूप पकड़ने के साथ लोगों के लिए घातक बनती जा रही है।

शितल शौर्य