October 26, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

उत्तर पूर्वी दिल्ली थाना दयालपुर क्षेत्र के अंतर्गत खुलेआम बिना किसी डर के बेखौफ होकर बीफ माफियाओं द्वारा चलाए जा रहे हैं अवैध बूचड़खाने.

उत्तर पूर्वी दिल्ली थाना दयालपुर क्षेत्र के अंतर्गत खुलेआम बिना किसी डर के बेखौफ होकर बीफ माफियाओं द्वारा चलाए जा रहे हैं अवैध बूचड़खाने.

उत्तर पूर्वी दिल्ली थाना दयालपुर क्षेत्र के अंतर्गत बृजपुरी नाले रोड पर और नया मुस्तफाबाद व पुराना मुस्तफाबाद बाबू नगर के आसपास जगह-जगह बीफ माफियाओं द्वारा बिना लाइसेंस के गैरकानूनी तरीके से अवैध बूचड़खाने खोल रखे हैं जो कि हर रोज यहां पर तकरीबन सौ डेढ़ सौ के करीब भैंस काटी जाती है और उनका मांस पूरे क्षेत्र में सप्लाई किया जाता है और भू माफियाओं द्वारा काफी मांस दिल्ली से बाहर भी एक्सपोर्ट किया जाता है।

सूत्रों से पता चला है कि जो लोग यह गैर कानूनी अवैध कारोबार कर रहे हैं वह रात को दो तीन बजे से लेकर सुबह छह सात बजे तक भैंसों को काटकर उनका मांस क्षेत्र में सप्लाई कर देते हैं और भैंस के अंदर का जो भी गंद व खून होता है उसको नाले में और नालियों में बहा देते हैं जिससे क्षेत्रीय लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है कई जगह तो ऐसी भी है जहां पर यह अवैध कारोबार करने वाले लोग भैंस के अंदर का जो भी कचरा आंत उजड़ी गोबर रोड पर ही फेंक देते हैं जिससे आम जनजीवन को काफी नुकसान पहुंचता है जिससे कोई भी बड़ी बीमारी जन्म ले सकती है।

कौन कौन हैं इस काम को करने वाले लोग

1. शाहिद कुरेशी और वहीद इन्होंने हिंदुस्तान डेयरी के सामने नेहरू विहार गली नंबर 17 मैं बूचड़खाना खोल रखा है.

2. रहीस व नवाब पुराना मुस्तफाबाद गली नंबर 16 में 25 फुटा रोड नूर मस्जिद के सामने बूचड़खाना खोल रखा है।

3. सलमान पुराना मुस्तफाबाद टेंट वाला स्कूल कचरे के पास बूचड़खाना बना रखा है।

4. हाजी वसीम कालू लालू नाम के व्यक्ति बृजपुरी नाला रोड गली नंबर 20 मुस्तफाबाद पर बूचड़खाना चला रहे हैं।

5. हाजी सलीम बृजपुरी नाला रोड गली नंबर 17 मुस्तफाबाद में बूचड़खाना चला रहा है।

6. जावेद बृजपुरी नाले रोड पर न्यू मुस्तफाबाद गली नंबर 4 में बूचड़खाना चला रहा है।

7. मकसूद पुराना मुस्तफाबाद गली नंबर 1 मैं बूचड़खाना चला रहा है।

8. गली नंबर 3 पुराना मुस्तफाबाद मैं निजामु इकराम बूचड़खाना चला रहा है।

9. मुस्तफाबाद के सामने चमन पार्क मैं वसीम नफीस शकील आबिद मुंशी नाम के व्यक्ति बूचड़खाना चला रहे हैं।

10. गली नंबर 9 पुराना मुस्तफाबाद कुए वाली मस्जिद के सामने यासीन नाम का व्यक्ति बूचड़खाना चला रहा है।

बड़ा सवाल यह भी है की बड़े पैमाने पर लगातार चल रहे इस अवैध कटान की जानकारी आखिर पुलिस को क्यों नहीं है? क्या यह पुलिस का बड़ा फेलियर नहीं है? कहीं ऐसा तो नही की पुलिस ने जानबूझकर अपनी आंखें बंद कर रखी। बहरहाल जो भी हो पुलिस के आला अधिकारियों को मामले का संज्ञान लेकर तुरंत इस अवैध कटान को बंद कराया जाना चाहिए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पूरा मामला एमसीडी की जानकारी में है, मगर MCD भी कोई कार्यवाही इन पर नही करती है। एमसीडी डॉक्टर के नीचे चार पांच कर्मचारी बिना डॉक्टर की नॉलेज के इन सभी कुरेशीओं से मंथली उठा रहे हैं जिसमें मुख्य रोल अजय का है जो एमसीडी का ही कर्मचारी है वही सबसे पैसे उठाता है।

मुस्तफाबाद में जितना भी मीट दुकानों पर टंगा हुआ है किसी पर भी बूचड़खाने का लाइसेंस नही है, सभी पूर्णतया गैर कानूनी है।

बीबीसी लाइव न्यूज़ के लिए उत्तर पूर्वी दिल्ली से राकेश गुप्ता की रिपोर्ट