October 30, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

इलाहाबादियों के लिए आफत बने पड़ोसी राज्यों के बांध


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

प्रयागराज,18 सितम्बर। शाहिद नकवी
इलाहाबाद मे आज शाम को यमुना पुल से बहुत नीचे नही है पानी।ये तस्वीर बता रही है कि प्रयागराज मे आने वाले घंटे बाढ़ को लेकर बहुत खतरनाक हो सकते हैं।शहर की एक बड़ी आबादी पहले से ही बाढ़ प्रभावित थी।आज शाम होते होते शहर के कई और मोहल्ले बाढ़ की चपेट मे आ गये।बताया जा रहा है कि करैली के गौसनगर इलके मे पांच सौ घरों मे पानी घुटने तक भर गया है।वहीं करैलाबाग इलके के भी कई दर्जन घरों मे शाम को पानी घुस गया ।जिन घरों मे पानी आने की सम्भावना है वह अपनी गृहस्थी बचाने के लिए बेचैन हैं।दिक्कत उनको अधिक है जिनके घर एक मंजिल हैं।वह ना तो सामान बचा पा रहे हैं और ना ही अपने को।राहत शिविर चल रहे हैं लेकिन प्रभावित उससे बहुत खुश नही दिख रहे हैं।

इलाहाबादियों के लिए आफत बने पड़ोसी राज्यों के बांध
प्रयागराज से शाहिद नकवी की रिपोर्ट
प्रयागराज,19सितम्बर।प्रयागराज मे गंगा और यमुना लगता है अपने चार दशक पुराने उस रिकार्ड जल स्तर तक पहुंच जायेगी जिहने पुराने इलाहाबाद मे भारी तबाही मचाई थी।रोज़ सुबह और शाम इन दोनों नदियों का पानी शहर के नये इलाकों मे प्रवेश कर रहा है।वहीं पहले बे जिन घरों मे पानी घुसा है वहां वह बढ़ रहा है।अब तक सुरक्षित माने जाने वाली जगह भी खतरे की जद मे हैं।वहीं पीछे से आनू वाले पानी मे कोई कमी ना होने से अगले दो दिनों तक खतरा टलने की उम्मीद भी नही दिख रही है।
प्रयागराज मे यमुना को विकराल करने को पीछे से आफत आ रही है। नदियों की धारा को देख कर खतरा भांपने वाले जानकारों का कहना है कि बेतवा का पानी यमुना के साथ बैक फ्लो करेगा। इससे गंगा उल्टी दिशा में बहेंगी। मुश्किल टोंस का जलस्तर बढ़ने से भी है। मेजा-सिरसा में भी तेजी से जल स्तर बढ़ रहा है।बताया जाता है कि एक दिन मे आधा मीटर जलस्तर बढ़ा है। जो गंगा को आगे बढ़ने से रोक रहा है। यह परिस्थिति बाढ़ के हालात और बिगड़ने का संकेत दे रही हैं।
                                बेतवा का पानी बृहस्पतिवार से शहर मे कहर बरपाने लगेगा। चंबल और राजस्थान से छोड़ा गया पानी फिलहाल औरेया और हमीरपुर में दिख रहा है।अनुमान के मुताबिक़ बेतवा का पानी अगले 24 घंटे में यमुना को विकराल करेगा। इन हालातों मे यमुना में जल का दबाव गंगा को बैक फ्लो करेगा। जानकर कहते है कि यमुना में बाढ़ के दबाव में गंगा उल्टी बहेंगी। इसमें टोंस का जलस्तर बढ़ना भी खतरनाक हालात का कारक बन सकता है। वहीं जिले के मेजा-सिरसा घाट पर तेजी से बढ़ रहा पानी गंगा के बहाव को बाधित कर मेड़ बना रहा है। आज दोनों नदियों के जलस्तर में होने वाली वृद्धि अगले तीन दिनों के लिए शहर और आसपास के इलाकों मे बड़ी परेशानी का सबब बन सकती है।
बुधवार की शाम को यमुना पुल से बहुत नीचे नही है पानी।उपर की यमुना की तस्वीर बता रही है कि प्रयागराज मे आने वाले घंटे बाढ़ को लेकर बहुत खतरनाक हो सकते हैं।शहर की एक बड़ी आबादी पहले से ही बाढ़ प्रभावित थी।बुधवार की  शाम होते होते शहर के कई और मोहल्ले बाढ़ की चपेट मे आ गये।बताया जा रहा है कि करैली के गौसनगर इलके मे पांच सौ घरों मे पानी  घुटने तक भर गया है।वहीं करैलाबाग इलके के भी कई दर्जन घरों मे शाम को पानी घुस गया ।जिन घरों मे पानी आने की सम्भावना है वह अपनी गृहस्थी बचाने के लिए बेचैन हैं।दिक्कत उनको अधिक है जिनके घर एक मंजिल हैं।वह ना तो सामान बचा पा रहे हैं और ना ही अपने को।राहत शिविर चल रहे हैं लेकिन प्रभावित उससे बहुत खुश नही दिख रहे हैं।
वहीं सिंचाई विभाग बाढ़ खंड की ओर से बुधवार की शाम जारी बुलेटिन के अनुसार गंगा के बाद शाम चार बजे यमुना भी खतरे के निशान पर पहुंच गई। फिलहाल बांधों से बुधवार को बड़ी जलराशि गंगा-यमुना में न छोड़े जाने से थोड़ी राहत महसूस की जा रही है। अब प्रशासन का पूरा जोर राजस्थान के बांधों से छोड़े गए पानी के यहां असर से निबटने को लेकर है।

इलाहाबाद मे बुधवार को नदियों का जल स्तर।
River Ganga(DL84.73 m)
Phaphamau-84.95 m
Chhatnag-84.25 m
RiverYamuna(DL84.73m)
Naini-84.75 m
Rate of rise in level
Phaphamau- 2 cm/hr
Chhatnag- 1 cm/hr
Naini- 1 cm/hr