July 6, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

उत्तर पूर्वी दिल्ली – भगत बिहार, माता मंदिर के पीछे दिल्ली में खुलेआम चल रहा है सट्टा जुआ व चिड़िया कबूतर का अवैध कारोबार

उत्तर पूर्वी दिल्ली के दयालपुर क्षेत्र के अंतर्गत मकान नम्बर 205, गली नम्बर 6, भगत बिहार, माता मंदिर के पीछे दिल्ली में खुलेआम चल रहा है सट्टा जुआ व चिड़िया कबूतर का अवैध कारोबार।

सटीक जानकारी के अनुसार दयालपुर थाना क्षेत्र का घोषित अपराधी सन्नी की सरपरस्ती में क्षेत्र में सट्टा जुआ व चिड़िया कबूतर का अवैध कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है,  ऐसा नहीं है कि पुलिस को  इस गोरखधंधे की जानकारी नहीं है  या फिर पुलिस कार्रवाई नहीं करती है, बल्कि  सनी नामक  इस अपराधी के  हौसले इतने बुलंद हैं  कि लगातार FIR होने के बाद भी  इसका काम  बदस्तूर जारी है।

आपको बता दें कि 24 दिसंबर को सनी के इस सट्टे के अड्डे पर दयालपुर पुलिस ने SHO साहब की अगुवाई में खुद एक रेड की थी जिसमें 11 लोगों पर गैंबलिंग एक्ट के तहत एफ आई आर दर्ज की गई मगर विचारणीय और बड़ा सवाल ये है कि इस FIR के बाद भी सनी का सट्टे का कारोबार कैसे और क्यों चल रहा है क्या सन्नी को पुलिस का कोई डर नहीं है या फिर स्वयं पुलिस ही ईमानदारी के साथ सट्टे के अड्डे को बंद नहीं करवाना चाहती है।

29 जनवरी को NGO कार्यकता व बीबीसी 24×7 की जूनियर पत्रकार अनिता को इस जगह सट्टे का काम चल रहा है या नही यह देखने के लिए भेजी गई थी, इससे पूर्व साकिर अंसारी दिल्ली लाइव न्यूज़ द्वारा इस सट्टे पर एक खबर चलाई गई थी, सन्नी ने जब एक अनजान लड़की को अपनी गली में घूमते देखा तो उसको लगा कि ये दिल्ली लाइव की कोई पत्रकार है, तो उसने अपने एक साथी से फोन नम्बर भिजवा कर कहा कि CAA पर एक प्रदर्शन चल रहा है आप इस नम्बर पर फोन कर लो तुम्हे अच्छी कवरेज मिल जाएगी, इसपर रात्रि 8 बजे के लगभग अनिता ने 7703872885 पर फोन किया तो उसने कहा कि गली नम्बर 6 में आ जाओ, जब अनिता वहां पहुंची तो वहां पर 2/3 लोग मौजूद थे ये लोग जबरन अनिता को मकान में उठा ले गए और वहां जाकर बर्बरता पूर्वक मारपीट करने के अलावा अनिता के नाखून तोड़ दिए और सेक्सुअली हैरेस किया, बाद में उनकी ही एक महिला साथी ने खुद को बचाने के लिए100 नम्बर झूठी कॉल की कि एक महिला बच्चा चुराते हुए पकड़ी गई है।

पुलिस मौके पर पहुंची और अनीता को थाने लेकर आ गई यहां IO  हेमराज को  अनीता ने पूरी बात बताई  मगर हेमराज ने  अनीता की कोई बात नहीं सुनी और यह जानने के बाद भी कि सट्टे वालों  ने  प्लानिंग के तहत  इस घटना को अंजाम दिया है, अनीता पर राजीनामा  के लिए लगातार दबाव डालते रहे और अनीता को बहुत सारी चोटें होने के बाद भी किसी किस्म की कोई मेडिकल हेल्प या एमएलसी वगैरह नहीं करवाई, ना ही अनिता का छीना हुआ सामान ही वापिस दिलवाया न ही उन अपराधियों के खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही ही की।

बाद में थाने में हीं पता चला की इस कुकृत्य को अंजाम देने वालों के नाम सन्नी, श्रीकांत, राजेश, नवीन ओर डॉक्टर है और ये सभी लोग सट्टे के अवैध कारोबार में लिप्त हैं तथा थाने में इनके घनिष्ठ सम्बन्ध है इसलिए पुलिस कोई कार्यवाही नही कर रही है।

इस पूरे प्रकरण की जानकारी पुलिस आयुक्त महोदय, सहायक पुलिस आयुक्त महोदय सहित थाना प्रभारी को दे दी गई है, यह देखना दिलचस्प होगा कि इन सट्टा कारोबारियों पर पुलिस क्या कार्यवाही करती है।

बीबीसी लाइव न्यूज़ के लिए राकेश गुप्ता की रिपोर्ट