October 29, 2020

BBC LIVE NEWS

सच सड़क से संसद तक

वलसाड-गुजारात* “आरती ड्रग्स लिमिटेड (जीआईडिसी) सरीगाम में गणतंत्र दिवस की 70वीं वर्षगाँठ बड़े हर्षोल्लास के साथ मनायी गयी


Notice: Trying to get property of non-object in /home/innpicom/public_html/wp-content/themes/newsium/inc/hooks/hook-single-header.php on line 71

*वलसाड-गुजारात* “आरती ड्रग्स लिमिटेड (जीआईडिसी) सरीगाम में गणतंत्र दिवस की 70वीं वर्षगाँठ बड़े हर्षोल्लास के साथ मनायी गयी।”,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

वलसाड जिलांतर्गत उमरगाम तहसीलान्तागर्त सरीगाम ग्रांम पंचायत नगर के सरीगाम औद्योगिक संगठन क्षेत्र अंतगर्त आरती ड्रग्स लिमिटेड “जीआईडिसी” सरीगाम में 71वां गणतंत्र दिवस राष्ट्रीय पर्व 70वीं वर्षगाँठ बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।इस समारोह के मुख्य अतिथि श्री शान्तू भाई रधिया रहे व अध्यक्षता श्री पिन्केश भाई ओझा जी ने की।इस महान कार्यक्रम का संचालन सिक्योरिटी डिपार्टमेंट के राजभान सिंह ने की।सर्वप्रथम नारियल अगरबत्ती व मिष्ठान्न के द्वारा तिरंगे झंडे का विधि-विधान पूर्वक पूजन किया गया।तत्पश्चात हमारी कम्पनी के वरिष्ठ ऑपरेटर श्री शान्तू भाई रधिया जी ने ध्वजारोहण किया व सलामी दी।उसके बाद सामूहिक राष्ट्रगान गाया गया व अमर शहीदों के नाम के जयकारे लगाये गये।कार्यक्रम की अगली कड़ी में समस्त अतिथियों का स्वागत एवं आभार व्यक्त राजभान सिंह, गोर्खा समाज के अग्रणी एवं पत्रकार टंकप्रसाद दाहाल,विष्णु नायर,लव माने , चन्द्रपाल सिंह, राजललन सिंह, जयनारायण सिंह, अनूप सिंह ने किया।स्वागत सत्कार शाल, गुलदस्ता एवं फूल माला के द्वारा किया गया,साथ ही वरिष्ठ ऑपरेटर श्री शान्तू भाई रधिया जी जो इस वर्ष सेवा मुक्त हो रहे हैं उनका शाल गुलदस्ता तथा फूल के हार के द्वारा जोरदार स्वागत किया गया।इस पावन पर्व पर अधिक उपस्थिति दर्ज कराने वालों को विशेष गिफ्ट के रूप में पुरस्कार भी आबंटित किया गया।इसमें प्रथम पुरस्कार राजेश जी शिम्पी, द्वितीय पुरस्कार शत्रुघन के नायक, तृतीय पुरस्कार शान्तू जानिया, चतुर्थ पुरस्कार बाबूभाई वारली, पंचम पुरस्कार राजेश जी पटेल, षष्ठम पुरस्कार महेन्द्र केलकर व विनोद सोमा तथा सप्तम पुरस्कार श्री शान्तू भाई रधिया जी को दिया गया।इस पुनीत अवसर पर राजभान सिंह जी ने “हमें जान से भी है प्यारा वतन, लुटा देंगे इसमें अपना तन,मन,धन।।”स्वरचित गीत की ,”आर्तनाद सुनते ही हिम गिरि हिमालय का ले त्रिशूल महारुद्र ताण्डव कर गरज उठा,देख नापाक पाक(पाकिस्तान)की काली करतूत हिन्द का बहादुर लाल मोदी (नरेन्द्र मोदी)दहाड़ उठा।”के जोशीले गीत ने सबके ह्रदय में जोश भर दिया।राजभान सिंह के सहयोगी रहे चन्द्रपाल सिंह ने भी “जय जननी जय जन्मभूमि जय भारत देश हमारा “गीत के माध्यम से सब लोगों का मन मोह लिया।राजभान सिंह ने अपने भाषण में स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि हर नागरिक नियमों का पालन करते हुए अगर कोई काम करे तो वही स्वतंत्रता है।कोई भी व्यक्ति गलत कार्य करके अगर कहे कि मैं स्वतंत्र हूँ तो वह स्वतंत्रता नहीं कहलाती, वह स्वच्छन्दता कहलाती है।अतः हम सब भारत वासी एक हैं सब मिलजुलकर अच्छे काम करें तो अपने विकास के साथ साथ ग्राम, राज्य तथा देश का विकास होगा।उन्होंने समस्त जनता जनार्दन से अपील की कि देश की सम्पत्ति को अपना मानते हुए उसकी हिफाजत करें, जहाँ तक हो नुकसान होने से बचाने का प्रयास किया जाय।साथ ही राजभान सिंह ने इस पावन पर्व पर आये हुये सभी लोगों का आभार व्यक्त किया।अन्त में सभा समाप्ति की घोषणा श्री पिन्केश भाई ओझा जी ने करते हुये गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें प्रेषित किये, इसके बाद सभी लोगों को चाय-नाश्ता भी कराया गया।रिपोर्ट,टंकप्रसाद दाहाल,वलसाड-गुजरात